Blog

सिर की चोट और उसकी गंभीरता

सिर की चोट और उसकी गंभीरता

सिर की चोट आपके मस्तिष्क या खोपड़ी पर किसी भी तरह की चोट है। यह हल्के धक्कों या चोट के निशान से लेकर मस्तिष्क की चोट तक हो सकती है। सामान्य सिर की चोटों में कन्कशन, खोपड़ी फ्रैक्चर और खोपड़ी के घाव शामिल हैं। परिणाम और उपचार बहुत भिन्न होते हैं, जो आपके सिर की चोट के कारण पर निर्भर करता है और यह कितना गंभीर है।

जब सिर में चोट लगती है, तो मस्तिष्क की कार्यक्षमता सिर के किसी भी दृश्य क्षति के बिना भी खो सकती है। सिर पर लगाए गए बल के कारण मस्तिष्क सीधे घायल हो सकता है, खोपड़ी की आंतरिक दीवारों के खिलाफ हिल या उछाल सकता है। आघात संभवतः मस्तिष्क के आंतरिक स्थानों में रक्तस्राव का कारण बन सकता है, मस्तिष्क के टिश्यू को काट सकता है या मस्तिष्क के भीतर तंत्रिका कनेक्शन को नुकसान पहुंचा सकता है।

सिर की चोटें या तो बंद हो सकती हैं या खुली हो सकती हैं। एक बंद सिर की चोट वो चोट है जो आपकी खोपड़ी को नहीं तोड़ती है। एक खुली सिर की चोट वह है जिसमें कोई चीज आपकी खोपड़ी को तोड़ती है और आपके मस्तिष्क में प्रवेश करती है। यह आकलन करना कठिन हो सकता है कि सिर की चोट कितनी गंभीर है। कुछ मामूली चोटों से बहुत खून बहता है, जबकि कुछ बड़ी चोटों में बिल्कुल भी खून नहीं निकलता हैं। सभी सिर की चोटों का गंभीरता से इलाज करना और डॉक्टर द्वारा उनका आकलन करना महत्वपूर्ण है।

सिर में लगी चोट के क्या-क्या कारण हो सकते है?

  • एक्सीडेंट होने पर किसी को भी चोट लग सकती है चाहे बच्चा हो या वयस्क।
  • हिंसा होने या पथराव व गोली बारी होने से सिर में चोट लगने का खतरा बना रहता है।
  • कुछ विस्फोट होने से मस्तिष्क को बाहरी चोट का खतरा बना रहता है।
  • उचाई से गिर जाना 
  • या चक्कर आकर गिर जाना 
  • बाहरी चोट लगने के कुछ कारण ये भी हो सकते है, जैसे की खेलते वक़्त चोट लगना चाहे क्रिकेट, फुटबॉल, वॉलीबाल, मुक्केबाज आदि हो।

सिर की चोटों के प्रमुख प्रकार क्या हैं?

हेमरेज: हेमरेज अनियंत्रित रक्तस्राव को बोला जाता है। आपके मस्तिष्क के चारों ओर रक्तस्राव हो सकता है, जिसे सबराचोनोइड रक्तस्राव कहा जाता है, या आपके मस्तिष्क के टिश्यू के भीतर रक्तस्राव, जिसे इंट्राकेरेब्रल रक्तस्राव कहा जाता है।सबराचोनोइड रक्तस्राव अक्सर सिरदर्द और उल्टी का कारण बनता है। इंट्राकेरेब्रल हेमोरेज की गंभीरता इस बात पर निर्भर करती है कि कितना रक्तस्राव होता है, लेकिन समय के साथ किसी भी मात्रा में रक्त दबाव का कारण हो सकता है।

कन्कशन : यह सिर की चोट का सबसे आम प्रकार है। कन्कशन एक प्रकार का ट्रॉमेटिक ब्रेन इंजरी है, जो तब होता है जब मस्तिष्क खोपड़ी से टकराकर उछलता है या जोर से हिलता है। यह हल्के से लेकर गंभीर तक हो सकता है। 

इडिमा:  मस्तिष्क की किसी भी चोट से इडिमा या सूजन हो सकती है। कई चोटें आसपास के टिश्यू की सूजन का कारण बनती हैं, लेकिन आपके मस्तिष्क में होने पर यह अधिक गंभीर है। इडिमा यानी सर के हिस्से में सूजन होना। यह बीमारी नहीं बल्कि बीमारी का संकेत है। इडिमा में होने वाली सूजन की खास बात है कि इसमें दर्द नहीं होता और अंगुली से दबाने पर सूजन वाली जगह पर अंगुली के निशान बन जाते हैं

खोपड़ी में फ्रैक्चर: खोपड़ी बहुत कठोर, मोटी हड्डी से बनी होती है जो मस्तिष्क को चोटों से बचाने के लिए बनी होती है। हालांकि, एक मजबूत प्रभाव से खोपड़ी को तोड़ना या फ्रैक्चर करना संभव है। कभी-कभी, एक टूटी हुई खोपड़ी की हड्डी मस्तिष्क को प्रभावित कर सकती है। हड्डी के टूटे हुए टुकड़े मस्तिष्क में कट सकते हैं और रक्तस्राव और अन्य प्रकार की चोट का कारण बन सकते हैं

सिर की चोट को चिकित्सा की आवश्यकता कब होती है?

सिर की चोटों को हल्के में नहीं लिया जाना चाहिए। अपने चिकित्सक को तुरंत देखें यदि आपको लगता है कि आपके सिर में गंभीर चोट के लक्षण हैं।

यदि आपको निम्न में से किसी एक का विशेष रूप से अनुभव हो तो आपको तुरंत डॉक्टर के पास जाना चाहिए :

  • बेहोशी
  • भ्रम की स्थिति
  • या सिर की तकलीफ़ का ठीक नहीं होना 

सिर पर लगने वाली गंभीर चोट की बड़ी वजह दुर्घटना होता है। इससे बचने के लिए कार ड्राइव करते वक्त सीट बेल्ट और टू व्हीलर चलाते वक्त हेलमेट अनिवार्य रूप से पहनें

Leave a comment